Mami ki Chudai ki Kahani | Xnxx Story | Hot Family Sex Story In Hindi 2021

Mami ki Chudai ki Kahani | मामी की चूत में जीभ

नमस्कार दोस्तों, मेरा नाम विराट है और जो कहानी मैं आपको बताने जा रहा हूं वह मेरे और मेरी मामी के रिश्ते के बारे में है। उसका नाम सुधा है और वह एक गृहिणी है। मेरा नाम विराट है और मैं मुंबई से हूं, ऊंचाई 5 फीट 8 इंच, लन्ड आकार 8 इंच और जिम बॉडी। अब मैं आपका ज्यादा समय बर्बाद न करते हुए अपनी कहानी पर आता हूँ।

यह बात आज से 3 साल पहले की है.. मैं पश्चिम मुंबई में रहता हूं और जैसा कि मैंने बताया कि मेरी मामी जो बांद्रा में रहती हैं अपने पति के साथ यानी मेरे मामा के साथ। मामी 30 साल की हैं, उनका आकार 36-30-36 है और वह बहुत सुंदर हैं और वह साड़ी में बहुत सेक्सी और हॉट लगती हैं, वह हरे, पीले और लाल रंग की साड़ी में और अधिक सेक्सी लगती।

फिर हुआ यूँ कि मैं कुछ दिनों के लिए अपने मामी के घर गया था, क्योंकि मेरी छुट्टी चल रही थी, बहुत दिन हो गए थे और मैं अपने मामी से नहीं मिला था, यहाँ तक कि मेरे मामी ने भी अनुरोध किया था कि मैं मिलने आऊँ , तो मैं अकेली हूँ।जब मैं घर में दाखिल हुआ तो मेरे मामी मुझे देखकर बहुत खुश हुए और मुझे गले से लगा लिया, क्योंकि मैं उनकी सबसे प्यारा हूं, उनके चेहरे पर खुशी झलक रही थी। फिर मामी ने चाय-नाश्ते का इंतज़ाम किया और परिवार के बाकी लोगों और मेरी पढ़ाई के बारे में पूछा। Mami ki Chudai

अब कुछ और ४-६ दिन ऐसे ही बीत गए, मामा घर पर नहीं थे, मम्मा दो साल से जहाज पर थे, इसलिए मामी को बहुत अकेलापन महसूस हो रहा था। फिर ममी ने कहा, चलो कहीं घूमने चलते हैं, मैं जल्दी में तैयार हो गया और हम दोनों घूमने चले गए, उस दिन मामी बहुत खुश थीं। मेरे मामा और मामी की शादी को शायद 4 साल हो गए थे, लेकिन उनकी कोई संतान नहीं है, इसलिए एक दिन रात के 11 बजे थे, तब मैं एक अंग्रेजी फिल्म देख रहा था, तब मेरी मामी ने दस्तक दी मेरे कमर में

मामी – विराट, परेशान तो नहीं किया।

मैं- नहीं मामी, रात में यहाँ? सब कुछ ठीक है ना?

मामी – नहीं विराट, ऐसे ही मुझे नींद नहीं आ रही थी तो सोचा कि तुमसे बात कर लूं, तुम्हें कोई दिक्कत तो नही है ना?

मैं- नहीं मामी, मुझे कोई दिक्कत नहीं है, आप जब चाहें मुझसे बात कर सकती हैं। Mami ki Chudai

मामी – अच्छा ठीक है, वैसे, आज अकेले सोने से डर लग रहा है, तो क्या तुम आकर मेरे कमरे में सो सकते हो?

मैं – अरे मामी, तुम ही मेरे कमरे में आओ, वैसे भी घर खाली है। (मैंने शरारती मुस्कान के साथ जवाब दिया)

मामी – अच्छा तो हम दोनों ही अकेले हैं, पर मेरा अकेलापन कौन दूर करेगा? तुम्हारे मामाजो मुझे यहाँ अकेला छोड़ कर चले गए।

मैं – मामी, किसी बात की चिंता मत करो, मैं यहां तुम्हारे साथ हूं, तुम्हें खुश रखूंगा और कुछ दिनों बाद तुम मम्मा को भूल जाओगी। (मैंने फिर मुस्कुराते हुए जवाब दिया) Mami ki Chudai

मामी – अच्छा सर।

मैं- हां मामी, वैसे एक बात कहूँ।

मामी – हाँ कहो।

मैं – मम्मा के बिना दिन कैसे गुजारती हो?

मामी – मैं दिन सिर्फ तुम्हारे साथ बिताती हूं।

मैं – और क्या ?

मामी – (आँखों में देखते हुए) ये है मेरी उदासी, अकेली रातें, फिर मामी उठकर वाशरूम चली गई।

ममी ने खुद को ठीक रखा था, अब मामी कपड़े बदलने चली गई और मैं फिल्म देखने लगा, हे भगवान, जब मामी अपनी नाइटी पहनकर आई थी, तो क्या लग रही थी। काली रात में उसकी जांघों तक उसके 36 इंच के स्तन पहाड़ी लग रहे थे। अब मेरा मन कर रहा था कि आज उन्हें चूसकर सारा रस पी लूं, शायद मामी ने मुझे अपने बूब्स देखते हुए देखा था और अब उसे थोड़ा भी अच्छा नहीं लग रहा था, फिर वापस जाकर सेलेक्स पहन लिया। फिर ममी मेरे पास आई टीवी देखने लगी Mami ki Chudai

मामी – अपनी प्रेमिका को नहीं बताया कि तुम आज यहाँ हो।

मैं- नहीं मामी, अगर उसे पता चल गया तो पता नहीं क्या सोचेगी?

मामी – क्या सोचेगी ?

मैं – मैं एक खूबसूरत लड़की के साथ ऐसा ही करूंगा।

मामी – (हंसते हुए) मैं कहाँ खूबसूरत दिखती हूँ यार, मज़ाक मत करो।

मैं – अरे मामी, जो तुम अभी पहनके आई थी वही पहनो, मामा को दिखाओ, वही बताएगे कि तुम कितनी खूबसूरत हो?

मामी – हाँ हाँ हाँ, तुम ही बताओ मैं कितनी खूबसूरत लग रही थी। Mami ki Chudai

मैं – बहुत खूबसूरत ।

मामी – शैतान, तुम्हारी माँ से बात करनी पड़ेगी तुम्हारी शादी के लिए ,लड़का शादी के लायक हो गया है

मैं – हां बोलो और बोलना की उसे मेरे जैसी लड़की पसन्द है

मामी – अच्छा आपको मेरे बारे में क्या पसंद है?

मैं – तुम्हें बुरा लगेगा।

मामी – अरे नहीं, बताओ ना। Mami ki Chudai

मैं- नहीं तुम्हें बुरा लगेगा।

मामी – अरे नहीं, मुझे बताओ ?

मैं – जब तुम सीढियो से नीचे आ रही थी तो तुम्हारे चूचे उछल रहे थे और मेरा लन्ड खड़ा हो गया था मुझे वो बहोत पसन्द है

मामी – (थोड़ा सा मुस्कुराते हुए) अच्छा सर, लड़का सच में बड़ा हो गया है। फिर मजाक में उसने अपना हाथ मेरी जांघ पर मारा। मेरा लंड उन्हें देखकर पहले से ही खड़ा था और गलती से उन्होंने मेरा लंड पकड़ लिया, उनका स्पर्श पाकर मेरा लंड और भी सीधा हो गया और फिर मैंने उनकी आँखों में देखा, उन्हें भी मेरा लंड पकड़कर बहुत अच्छा लगा.

मामी – शर्माते हुए, चलो अब सो जाते हैं।

मैं- ठीक है मामी, गुड नाईट। Mami ki Chudai

अब मेरी हालत खराब थी और मैं सोच रहा था कि कहाँ से शुरू करूँ? इसमें सुधा मामी की आवाज आई कि विराट, मुझे डर है, मेरे कमरे में ही सो जाओ। फिर मैंने कहा कि ओके में आऊंगा। फिर मैं अंदर बेडरूम में गया, अब मामी बिस्तर पर कंबल ओढ़कर लेटी हुई थी। फिर मैंने कहा कि मामी तुम बिस्तर पर सो जाओ और मैं सोफ़े पर सो जाऊँगा।

मामी – ठीक है।

फिर थोड़ी देर बाद ममी वाशरूम चली गईं, अब मैं सोने ही वाली था, तो तेज आवाज सुनकर मेरी नींद खुल गई। तभी मामी की आवाज आई कि विराट , मामी गिर पड़ी हैं। फिर मैंने उन्हें सहारे से उठाया और गोद में उठा लिया, हालांकि वे थोड़े मोटी हैं, लेकिन मैं जिम जाता हूं तो उन्हें आसानी से उठा लेता हूं।

फिर मैंने देखा कि उसने सैलेक्स नहीं पहना हुआ था और जब मैंने उसे गाँड़ से उठाया तो मेरे हाथों को उसकी पैंटी महसूस हुई और मेरा शैतान लन्ड फिर से खड़ा हो गया और अब मेरा लंड उसके पेट पर लगने लगा। फिर मैंने उसे बिस्तर पर लिटा दिया और पूछा कि वह कहाँ है? फिर उसने इशारा किया और कहा कि जो तुम्हें सबसे ज्यादा पसंद है, तब मैं समझ गया कि उसकी गांड को चोट लगी है। फिर मैंने अपने मामी से कहा, मुझे तेल से मालिश करने दो। फिर उसने इशारा किया कि तेल वहीं रखा हुआ है।

फिर मैंने उसे चेहरे की ओर लेटकर लेटने को कहा, उसे इतना दर्द हो रहा था कि उसे होश ही नहीं था। फिर जब वो मुंह के बल लेट गई तो बहुत रात हो चुकी थी और मैं उसकी गांड देख सकता था, उसने लाल रंग की पैंटी पहनी हुई थी। अब मेरा 8 इंच का लंड फुल साइज में आ गया था। Mami ki Chudai

तब मैंने उसकी गाँड़ की मालिश शुरू कर दिया और मैं अपने होश खोने शुरू कर दिया और मैं उसकी गाँड़ पर एक चुंबन किया था, हो सकता है उसे मैं क्या कर रहा था पता था? और उसका दर्द भी खत्म होने लगा था। फिर मैंने उससे कहा कि मामी, तुम्हारी पैंटी बीच में आ रही है, उतार दू, फिर उसने कहा कि तुम इसे उतार दो। फिर मैंने उसकी पैंटी उतार दी, अरे यार, उसकी मस्त गांड क्या थी? मैं सोच रहा था कि अब मैं इसे कुतिया बना दूं और अपना लंड उसकी चूत में डाल दूं।

फिर मैंने झट से अपने कपड़े उतारे और अपना लंड उसकी गांड पर फेरने लगा, अब उसे भी बहुत मज़ा आ रहा था और अब वह मुडी, उसकी आँखें बंद थीं। फिर उसने अपनी चूत पर हाथ रखा और कहा कि इसमें भी दर्द है, इसे भी लगाओ, क्या गुलाबी चूत थी, बिल्कुल 18 साल की लड़की की तरह गुलाबी-गुलाबी और छोटे बाल, मानो 3 दिन पहले कटवाए ह हो। तब मैं उसकी चूत पर मैंने उंगली डाल दिया और मामी ने आवाज निकालना सुरु कर दिया Mami ki Chudai

तब मैं उन्हें अपनी उंगली से चुंबन करना शुरू किया और मामी उसके हाथ से कसकर चादर पकड़ रखी थी और उसकी आवाज कक्ष, भर में गूंज रही थी … अब मैं मामी के 69 पद के लिए चला गया और चूत चाटना शुरू कर दिया, अब वह पूरी तरह से हैरान था और कूद गयी, शायद मामा ने कभी उसकी चूत नहीं चाटी थी, तो ममी चिल्लाई कि विराट क्या कर रहे हो , aahhh

मामी – आपका लन्ड कितना बड़ा है? कृपया इसे मेरी चूत में डाल दो।

मैं- मेरी जान अब चलो चूत चाटते हैं, मुझे चूत चाटना अच्छा लगता है।
फिर मैंने अपनी मामी की चूत में जीभ डाल दी, तो उसके व्यवहार से ऐसा लग रहा था जैसे वह जन्नत में है। फिर मैंने मामी से पूछा, मामी कॉन्डम है क्या? फिर उसने कहा कि अलमारी में से जाकर ले लो। फिर मैं एक कंडोम लेकर आया और अपनी मामी को पहनाने को कहा तो उसने बड़े प्यार से मेरा लंड चूसा और उस पर कंडोम लगा दिया।

उस रात, मैं मामी की चूत दो बार चूसा और उसके इशारे पर भी एक बार उसकी गाँड़ मारी। मैं 15 दिनों के लिए मेरे मामा के घर में रह रहा था, उन 15 दिनों में मैं उसे इतना चोदा की वह मुझसे बहुत ज्यादा चुदना चाहती थी ।अब जब मैं उसके घर से अपने घर के लिए निकल, मामी नई मुझे बहुत kiss किया और बोला कि जब भी इधर आओ तो आके मेरी चूत चाट के मुझे चोद लेना। Mami ki Chudai

Leave a Comment