Lesbian Porn Stories | उँगलियाँ उसकी पैंटी में | Sexy Porn Story 2021

Lesbian Porn Stories | उँगलियाँ उसकी पैंटी में

दिल्ली से वापस आने के चार-पांच महीने बाद मैं एक पेइंग गेस्ट में रहने लगी, इसलिए मेरी उम्र की लड़की रचना मेरे साथ मेरे कमरे में मेरे साथ थी। रचना बनारस की थी और वह एक ऑफिस में भी काम करती थी, वह मेरी अच्छी दोस्त बन गई। Lesbian Porn Stories

एक दिन मैं अपने कार्यालय से जल्दी घर आ गयी थी क्योंकि मुझे और रचना को कुछ खरीदारी करने के लिए बाजार जाना था। घर आने के बाद, मैंने जल्दी से खाना बनाया और रचना की प्रतीक्षा करने लगी। रचना ने कहा था कि वह चार बजे तक आ जाएगी। Lesbian Porn Stories

Lesbian Porn Stories

करीब साढ़े तीन बजे अचानक घने काले बादल बनने लगे और तेज बारिश होने लगी। मुझे लगा कि सारा कार्यक्रम गड़बड़ हो गया है और मैंने समय बिताने के लिए बेडरूम में टीवी देखना शुरू कर दिया। अचानक मेरी आँखें लग गईं और मैं बहुत देर तक सोती रही।

जब मैं 7:30 बजे उठी तो देखा कि बारिश थम गई थी लेकिन रचना अभी तक नहीं आई थी।

मैंने उसके मोबाइल पर कॉल किया तो वह स्विच ऑफ था। मैंने उनके साथ काम करने वाले उनके एक साथी को फोन किया और उन्होंने बताया कि आज ऑफिस की पार्टी थी तो सब वहां थे और चार बजे ऑफिस बंद हो गया. अब मेरा पारा चढ़ने लगा कि रचना ने फोन करके कहा होता कि आज का कार्यक्रम न बनाऊं तो आधा दिन व्यर्थ नहीं जाता।

खैर, रचना रात 8.30 बजे घर में दाखिल हुई। वह पूरी तरह भीगी हुई थी और ठंड से कांप रही थी, आते ही बोली- सॉरी शालू! मुझे माफ़ कर दो दरअसल, ऑफिस में अचानक पार्टी का प्रोग्राम बना, तो मेरे दिमाग में यह बात कौंध गई कि मैं आपको फोन करके बता दूं कि आज का प्रोग्राम न रखें। कृपया मुझे क्षमा करें यार! Lesbian Porn Stories

हालांकि मेरा मूड बहुत खराब था लेकिन फिर भी मैं सिर्फ इतना कह कर चुप रही कि पूरा कालीन गीला हो जाएगा इसलिए सीधे बाथरूम में जाकर कपड़े बदल लें।

उसने बैग अपने हाथ में सोफे पर रख दिए और जैसे ही वह अंदर आई, मुझे कुछ गंध आई, मैंने उससे पूछा – क्या तुमने शराब पी है?

तो रचना ने कहा- हां, पार्टी में सभी लड़कियां शराब पी रही थीं, इसलिए मैंने भी वहां एक गिलास पिया।

मैंने देखा कि उसके पर्स के साथ तीन और बैग थे। तब रचना बाथरूम के दरवाजे पर खड़ी हो गई और बोली- शालिनी, प्लीज मेरा तौलिया पकड़ लो! Lesbian Porn Stories

जब मैं उसका तौलिया लायी तो उसने वहां अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिए। मैंने उससे कहा – ठंड होगी, दरवाजा बंद करो और अंदर कपड़े बदलो!

लेकिन उसने मेरी बातों पर ध्यान नहीं दिया और अपने शरीर को तौलिये से साफ करने लगी। हालांकि मैंने रचना को पहले भी कई बार कपड़े बदलते देखा है लेकिन आज मैं पहली बार उसे बहुत ध्यान से देख रही थी। Lesbian Porn Stories

रचना ने अपनी ब्रा उतारी और फिर पैंटी उतार दी। मैंने देखा कि उसकी चूची बहुत बड़ी नहीं थी, लेकिन बहुत छोटी भी नहीं थी, शायद 32 आकार की थी। पतली कमर और छोटी गांड ठीक वैसी ही है जैसी लड़के आमतौर पर पसंद करते हैं।

उनके नक्शे बहुत अच्छे थे। कुल मिलाकर इस समय रचना मुझे बहुत सेक्सी लग रही थी. ऊपर से ठंड के कारण उसके चीकबोन्स बहुत सख्त हो गए थे। मैंने सोचा कि अगर मैं कर सकती तो मैं बस उसकी चूचियो को दबाती और उसके निप्पल चूसती। Lesbian Porn Stories

फिर मेरी नींद टूट गई जब रचना ने मुझसे पूछा- शालू इतनी ध्यान से क्या देख रही है?

“नहीं, कुछ नहीं! मैं बस देख रही थी कि आज तुम्हारा मूड कुछ अलग लग रहा है!” यह कह कर मैं चुप हो गयी

मैं गाउन को रचना के पास ले गयी लेकिन उसने कहा- नहीं, आज मैं पहनने के लिए कुछ नया लेकर आई हूं। रचना ने एक बैग खोला और एक पैकेट में से कुछ कपड़े निकाले। मैंने देखा कि उसके हाथ में काली ब्रा और पैंटी थी। वो मेरे सामने पहनी और फिर मेरे सामने खड़ी हो गई और पूछने लगी- देखो शालू कैसी लग रही हो?

मैंने कहा – अपने किसी चाहने वाले से पूछो, वह बताएगा कि तुम कैसी लग रही हो!

सच कहूं तो सृष्टि बर्बाद लग रही थी। मैंने मन ही मन सोचा कि काश मैं लड़का होता तो उसे इधर-उधर गिरा देता और उस पर चढ़कर उसकी चूत और गांड का पकौड़ा बना देता। Lesbian Porn Stories

lesbian sex stories

फिर उसने मुझसे कहा – शालिनी, अगर मैं एक बात कहूं तो क्या तुम्हें बुरा लगेगा?

“बोलो नहीं!” मेरे मुंह से निकला।

“नहीं, पहले वादा करो कि तुम बुरा नहीं मानोगे!” उसने फिर कहा।

“ठीक है, मैं कसम खाता हूँ कि मुझे कोई आपत्ति नहीं होगी! अब बोलो?”

फिर उसने दूसरे पैकेट में से एक ब्रा और पैंटी निकाल कर मेरे सामने रख दी और कहा- मैं यह तुम्हारे लिए लायी हूं। कृपया मना मत करना।

मैंने देखा कि रचना मेरे लिए सिर्फ काली ब्रा और पैंटी लाई थी। मैंने उसे धन्यवाद दिया और कहने लगा- अब तुम जल्दी से तैयार हो जाओ।

इस पर रचना ने कहा- पहले तो आप भी अपनी ब्रा और पैंटी पहन कर दिखाओ

मैंने कहा- कल सुबह पहन लूंगी! Lesbian Porn Stories

लेकिन रचना बार-बार मुझसे तभी बदलने को कह रही थी। मैंने उससे कहा – तुमने शराब पी है, तुम नहीं जानते कि तुम क्या कह रहे हो।

इस पर रचना ने कहा- मैंने सिर्फ एक गिलास पिया और उसके बाद अपने साथ काम करने वाले एक लड़के को लेकर वहां से निकल गई।

फिर अचानक रचना मेरे पास आयी और मेरे गाल चूमा और कहा – प्लीज बदल लो न

अब मैं अंदर जाने लगी और वो बोला- नहीं!!!! अंदर मत जाओ, यहीं मेरे सामने बदलो!

“आप के सामने?” मेरे मुंह से निकला।

“हाँ, मैं भी तुम्हारे सामने नंगी खडी हूँ, तो तुम्हें क्या परेशानी है?” रचना ने कहा। Lesbian Porn Stories

मैंने भी सोचा, क्या होगा देखा जाएगा और मैंने अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिए। जब मैं पूरी तरह से नंगी थी, तो रचना कहने लगी- शालिनी यार, तुम बहुत सेक्सी हो, तुम्हारी चूचिया कितनी बड़ी हैं, मैं उन्हें खाना चाहती हूँ।

lesbian pussy licking

“तुम बहुत सेक्सी हो !” मुझे लगा कि मेरी आवाज कुछ कर्कश हो गई है। जैसे ही मैंने अपनी ब्रा और पैंटी पहनी रचना कहने लगी- हाँ, अब हम दोनों एक ही रंग की ब्रा और पैंटी में हैं।

“लेकिन इसके बारे में क्या?” मैंने पूछ लिया Lesbian Porn Stories

“रुको, अभी बताती हूँ।” यह कहते हुए कि रचना ने दूसरा बैग खोलना शुरू किया, मुझे लगा कि कोई डिल्डो आदि ना निकल जाए। लेकिन रचना ने उस बैग से दो जोड़ी लाल रंग की सैंडल निकाली और कहा, “ तुम्हारे लिए एक जोड़ी है और मेरे लिए एक जोड़ी है। . चलो अब पहन लो।

” तुम पागल तो नहीं हो, है ना?” मेरे मुंह से निकला।

“चाहे तुम मुझे पागल कहना चाहते हो या जो कुछ भी तुम चाहते हो, अब उन्हें पहनो और दिखाओ।” रचना ने सैंडल पहनकर कहा।

मैंने सैंडल पहनी थी, बिल्कुल मेरे आकार की थी।

तब रचना मुझे फिर से चूमा और कहा – शालिनी, बस एक बार चलो और मुझे दिखाओ! Lesbian Porn Stories

मैं कुछ कदम चली तो रचना बोली- अब तो तुम असली सेक्सी लड़की लग रही हो। अब बस अपनी पीठ मेरी ओर करो!

जब मैंने उसकी ओर पीठ की तो उसने पीछे से मेरे चूतड़ पर हाथ रखा और कहने लगी- तुम्हारी गांड बहुत मस्त है शालू! अगर मैं लड़का होता तो आज तुम्हारी गांड जरूर मार देता!

मेरी सांस जोर से चल रही थी, “क्या तुम मेरे गाँड़ मारोगी
मैं तुम्हारी मारना चाहती हूं!” इतना कहकर मैं रचना के पीछे-पीछे आ गयी और उसे घोड़ी बना कर उसकी गांड पर जोर से जोर मारने लगा। कुछ धक्कों के बाद, मैं ऊपर सीधा और मेरी बाहों को भरके रचना चूमने शुरू कर दिया।

रचना ने दोनों उसके हाथ में मेरा चेहरा ले लिया और मेरे होंठ चूमने शुरू कर दिया, उसके बाद ही मैं अपने होंठ एक छोटे से खोला और उन्हें मेरे होठों में दबा कर उसके होंठ चूसने शुरू कर दिया। मेरे हाथ उसकी गांड और पीठ सहला रहे थे। थोड़ी देर बाद मैंने उसकी दोनों चूचो को अपने हाथों में लिया और कभी हल्का तो कभी जोर से दबाने लगी।

कुछ देर बाद मैंने रचना को छोड़ दिया और पूछा- पहले बताओ तुम आज कहाँ गए थे? इस पर रचना कहने लगी- जब वह एक लड़के को लेकर पार्टी से बाहर आई तो तेज बारिश हो रही थी, इसलिए बस स्टॉप के नीचे खड़ी हो गई और फिर सामान खरीदकर लड़का घर से निकल गया।

“सच कहो! मुझे लगता है कि तुम भी उस लड़के के साथ कहीं और गई थी?”

तब रचना ने कहा- नहीं और कहीं नहीं गई।

wet pussy

तब रचना जोर से चिल्लाई – ओह शालू, मैं भूल गई। मैं खाना लायी थी और उसी शराब की एक बोतल लायी थी जो उसने आज पिया था! मैंने उससे कहा – देखिए, इस ब्रा पैंटी की वजह से तुम्हारा दिमाग खराब हो गया है।

उसने बैग से खाने का सामान निकाला और किचन में रखने लगी

तब रचना ने वोदका की एक बोतल निकाली और मेरे सामने शेल्फ पर रख दी।

मैंने उससे पूछा – क्या तुमने पहले कभी पिया है? Lesbian Porn Stories

तो कहा – नहीं, आज मैंने पहली बार केवल एक गिलास पिया, फिर सोचा कि मैं इसे तुम्हारे साथ पीऊंगी और देखूंगी कि अगर कुछ होता है, तो आप मेरी देखभाल करने के लिए हैं या नही

और मुझे गले लगाने लगी।

“बस करो! अभी रुको, मैं तुम्हारे लिए एक पेग बनाऊगी!” इतना कहकर मैंने हम दोनों के लिए एक पेग बनाई और खाने की चीजों को गर्म करने लगी। मैंने सब कुछ टेबल पर रख दिया और हम दोनों बस ब्रा पैंटी में बैठ कर पीने लगे।

फिर रचना ने मेरी जाँघ पर हाथ रखा और सहलाने लगी। फिर मैं भी एक हाथ से उसकी जाँघ को सहलाने लगी।

pussy licking

फिर मैंने अपना एक हाथ उसकी कमर के पीछे रख दिया और अपना हाथ रचना की पैंटी में डाल दिया और उसकी गांड को सहलाने की कोशिश करने लगी, फिर रचना मेरी तरफ पीठ करके खड़ी हो गई और नीचे झुकी और अपनी गांड को मेरी तरफ ले गई और बोली- लो यह। जो तुम्हें करना है वो करो। इसे अपनी पसंद के अनुसार यूज़ करें!

मैं उसे सीधा किया, उसमे अपनि गाँड़ पर मेरे हाथ लगाए और मेरे ऊपर उसे मोड़कर उसे चूमने शुरू कर दिया। मेरे हाथ धीरे-धीरे उसकी ब्रा की हुक खोल रहे थे। मैं मेने उनकी ब्रा खोल दी और उसकी चूची को चूसने ओर चूमने शुरू कर दिया। Lesbian Porn Stories

फिर रचना ने मेरी ब्रा भी उतार दी और मेरी चूची को दबाने लगी। मैंने उसे सोफ़े पर इस तरह लिटाया कि उसकी चूत मेरे मुँह के ठीक सामने थी। एक तरफ उसका सिर था और दूसरी तरफ उसके पैर।

मेने उसकी चुत को अपने मु से चाटा ओर मैंने चूचियो को जोर से दबाकर उसे चूसा। अब मेरा एक हाथ उसकी जाँघ को सहला रहा था और उसकी पैंटी के ऊपर से उसकी चूत को भी सहला रही थी

lesbian sex

फिर मैंने उनके होठों को अपने होठों में दबाकर चूसने लगी और धीरे-धीरे अपनी उँगलियाँ उसकी पैंटी में डालने लगी। मैंने उसकी पैंटी नीचे कर दी। मेरे सामने उसकी गुलाबी फटी चूत थी। मैंने अपनी जीभ उसकी जाँघों पर उसकी चूत के चारों ओर घुमाना शुरू किया और एक उंगली सृष्टि की चूत में डाल दी।
इसी तरह हमने पूरी तरह एक दूसरे की चूत चाटी ,चूत में उंगली डाली ,जीभ से एक दूसरे की चूत की चुदाई करि ओर रात भर मस्ती की Lesbian Porn Stories

Leave a Comment