CUDAI KHANI – छत पर देसी औरत की चुदाई | Sexy Cudai Ki Khani 2021

CUDAI KHANI – छत पर देसी औरत की चुदाई

मेरा नाम गौरव है, मैं उत्तर प्रदेश से हूं, मैं दिल्ली में रहता हूं, मैं वेबसाइट डिजाइन करता हूं, मैं अक्सर अपनी कहानी इस वेबसाइट पर पोस्ट करता हूं, क्योंकि मैं बहुत चोदूं प्रकृति का हूं, और दिखने में बहुत स्मार्ट हूं, CUDAI KHANI

इसलिए मैं किसी न किसी की लेता हूं , और म अपने लंड का शिकार बना लेता हु, मेरा लंड भी 9 इंच का है तो किसी का भी मन पसंद करता है। जो एक बार चुद जाती है, उसे बार-बार चुद ने का मन करता है अब मैं मेरी कहानी पर आता हूं ।

मैं अभी गाँव गया था, एक शादी में मेरे साले की बेटी की शादी हुई थी, घर बहुत छोटा था, और बहुत गर्मी हो रही थी, गर्मी के कारण गाँव की हालत बहुत खराब हो रही थी,

किसी तरह दिन भर गर्मी कटी और रात कुछ राहत मिली होती, क्योंकि छत पर सोया था, बिजली न के बराबर थी। शादी के एक दिन पहले की बात है, औरतें गीत गा रही थीं, सब सो गए थे,

एक बार सो जाने वाला थका हुआ आदमी सुबह ही जागता था, ऐसे सोता था, मेरी पत्नी आई और बोली बगल के घर में इन्वर्टर लगा हुआ है, मैं वही सो जाऊंगी , CUDAI KHANI

एक कमरे में सभी औरतें सो रही हैं, वहां सोने की व्यवस्था करना अच्छा है, मैंने कहा ठीक है भाई, तुम्हारी व्यवस्था हो गई, चलो, मैं ठीक हूँ यही छत पर,

वो चली गई, और मैं सो गया, रात के करीब तीन बजे मेरी नींद गहरी थी, कुछ और बच्चे और औरतें सो रहे थे, एक लाइन से, मैं लास्ट में था, उस पर एक बहुत बड़ा दरी पड़ा हुआ था।

CUDAI KHANI - छत पर देसी औरत की चुदाई | Sexy Cudai Ki Khani 2021

उस पर सब लोग अपनी चादर पर सो रही थी, दोस्तों मुझे आश्चर्य हुआ, मेरे बगल में एक औरत सो रही थी, साड़ी पहनी हुई थी, साड़ी अस्त-व्यस्त थी, घुटने तक उठी थी, चांदनी रात में पायल की चमक रही थी

और साड़ी उसके चेहरे के चारों ओर लिपटी हुई थी, ब्लाउज से दो बड़े निप्पल तने हुए थे, और ऊपर से दरार दिखाई दे रही थी, पेट चौड़ा था, नाभि को देखकर ऐसा लग रहा था कि मुझे अपना लौड़ा उसमें डाल देना चाहिए।

गोल कलाई पर लाल चुड़िया, नींद में साँस लेती थी, फिर उसके निप्पल ऊर-नीचे हो रहे थे, कमाल की औरत थी, क्या ख़ूबसूरत थी, ओह्ह, मेरा दिमाग़ उड़ गया, मेरी साँसें तेज़ चलने लगीं। CUDAI KHANI

मैं बैठा था और उसके शरीर को देख रहा था, फिर उसने अपना पक्ष लिया और मेरी तरफ आगे खिसक गई, अब उसकी पीठ दिखाई दे रही थी, और चौड़ी गांड मेरी तरफ थी।

मैं वापस सोने चला गया लेकिन मेरी नींद उड़ चुकी थी, मैंने अपना लण्ड हाथ में लिया और हिलाने लगा। मैं उस महिला को नहीं पहचानता था, लेकिन वह बहुत छोटी थी,

वह लगभग 30 साल की रही होगी, उसके बाद मैं उसकी तरफ घूमा और अपने लिंग को अपने हाथ से हिलाने लगा।

फिर वो फिर करवट लि और मेरी तरफ मुड़ी, अब वो मुझमें सट गई थी, मेरा लंड उसके चूतड़ में सट गया था, उसके बदन से सुगंध आ रही थी, मुझे और भी नशा होने लगा था। CUDAI KHANI

मैंने सोचा कि जो भी हो, आज मैं इस सुंदरता को नहीं छोड़ूंगा, आज मैं इस खूबसूरत शराबी महिला की चूत में अपने लंड का रस डालूंगा, और फिर क्या था, मैंने अपना हाथ उसकी बांह पर रखा और धीरे से सहलाने लगा |

उसके बाद वह फिर मुड़ी और फिर सीधी हो गई, उसका मुंह साड़ी से ढका हुआ था, लेकिन बाकी सब मेरे सामने था, उसका ब्लाउज मेरी आंखों के सामने था, चौड़ा पेट, मोटी मोटी जांघें, मैंने अपना हाथ उसके चूचे पर रख दिया

कुछ देर ऐसे ही रखा और फिर सहलाने लगा। और फिर दबाने लगा। और फिर ब्लाउज का हुक खोलकर उसकी छाती पर जोर से दबाने लगा। दोस्तों क्या बताऊं तो मैंने उसकी साड़ी ऊपर कर दी, उसने अंदर पैंटी नहीं पहन रखी थी,

मोटी-मोटी गोरी जांघों को सहला रही थी, जब मैंने उसकी चूत पर हाथ रखा तो मुझे एक अलग ही गर्मी का अहसास हुआ, चूत पर घने बाल थे और चूत गीली थी और चूत की गर्मी साफ दिखाई दे रही थी। CUDAI KHANI

फिर वो फिर मुड़ी, तब गांड़ मेरी तरफ आ गयी थी, अब मुझसे दूर नहीं रहा जा रहा था, पूरी साड़ी उठा ली, गोल चूतड़ बहुत मस्त लग रहे थे, मैंने सहलाया, और फिर चूत में उँगली की, चूत गीली होने का कारण और चिकनी होने के कारण,

उंगली अंदर चली गई, फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला, और उसका पैर उठाया, अपने ऊपर रख दिया और अपना एक पैर उसके दोनों पैरों के बीच में रख दिया, लंड को चूत के छेद पर रख दिया, भीतर पेल दिया, आह ओह्ह्ह्ह क्या बताऊँ दोस्तों चूत ना बहुत टाइट थी और ना ढीली थी, CUDAI KHANI

मेरा लोड़ा पूरा नौ इंच उसकी चूत में समा गया अब मेरा पूरा लंड उसकी चूत के अंदर था, फिर उसके मुँह से आवाज़ आई,,, और फिर मैंने धीरे से मेरी चुदाई के झटके देने चालू कर दिए ,

निप्पलों को मसल कर मैं फुल सेक्स का मज़ा ले रहा था, लेकिन बहुत देर तक नहीं चोद पाया, क्योंकि मैं बहुत गर्म था , और लगभग दस मिनट के भीतर मैं झड़ गया था, लेकिन वह संतुष्ट नहीं थी,

क्योंकि उसके मुंह से उह की आवाज निकली थी, मैं शर्मिंदा था, मैं सो गया जब मैं उठा तो वह वहां दिखी नहीं, कई महिलाएं शादी में आई थीं। लेकिन दिन भर उसकी शिनाख्त करने की कोशिश की लेकिन पता नहीं चला।


अगले दिन वह रात को फिर सोने आयी और फिर रात के करीब दो बजे आई, और फिर मेरे साथ लेट गई। फिर क्या था, उसके शरीर को टटोलने लगा ब्लाउज का हुक खोल दिया, और इस बार भी ब्रा का हुक खोल दिया, CUDAI KHANI

और पेटी कोट ऊपर कर दिया, लेकिन वह अपना मुंह ढकती रही, उसे हटाने की कोशिश की लेकिन उसने नहीं किया ,इस बार उसके ऊपर चढ़ गया और जोर-जोर से चोदने लगा।

करीब आधे घंटे तक खूब चोदा, कभी पीछे से, कभी ऊपर से, कभी ऊपर से तो कभी मुंह में चोदता था, आज वह बहुत संतुष्ट हुई, वो मुझे पकड़ पकड़ कर खूब चुद गई, मैंने भी उसे संतुष्ट किया। उसके बाद वह उठकर चली गई।


अगले दिन वह सोने नहीं आई, शायद वापस चली गई, वह शादी में आई थी। और फिर दूसरे दिन हम भी बापस चले गए। लेकिन एक खूबसूरत याद के साथ। CUDAI KHANI

Leave a Comment