BHABHI KI CHUDAI KAHANI |2021 latest Indian sex story | Hot भाभी की चुदाई कहानी

BHABHI KI CHUDAI KAHANI | latest Indian sex story | Hot भाभी की चुदाई कहानी

BHABHI KI CHUDAI KAHANI

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम राजवीर है। मैं लुधियाना में रहता हूँ और मेरा खुद का कूरियर व्यवसाय है।

मेरी उम्र 28 साल है और मैं मध्यम आकार का शरीर हूँ। मैं न तो बहुत मोटी हूँ और न ही बहुत दुबला हूं। मेरा लण्ड 7 इंच लम्बा है जो किसी भी भाभी को पूरी मस्ती में लाने के लिए काफी है।

आज मैं आपको हॉट भाभी सेक्स स्टोरी (Bhabhi Ki Chut Chudai ) बताने जा रहा हूँ, यह मेरी पहली और सच्ची घटना है।

यह घटना मेरे साथ तब हुई जब मैंने अपना नया काम शुरू किया। BHABHI KI CHUDAI KAHANI
श्रावण का महीना चल रहा था। आप सभी जानते हैं कि इस मौसम में, जब बादल बरसने लगते हैं तो बारिश का कोई भरोसा नहीं होता।

मैं उस दिन अपने घर की छत पर घूम रहा था। बादल नहीं बरसे, लेकिन एक भाभी जरूर बरस गई।
चलते समय मेरी नज़र अपने पड़ोसी की भाभी पर पड़ी।

उसका नाम रूबी था और उसका पति सेना में उच्च अधिकारी के रूप में काम करता था। BHABHI KI CHUDAI KAHANI

भाभी का फिगर 36-32-38 था। रंग एकदम सफेद दूध जैसा था। उसकी आँखें हल्की नीली थीं। गांड काफी फूली हुई थी। गली के सभी लड़के उसके घेरे में रहते थे।

वे सभी चोदने की फिराक में रहते थे क्योंकि पति ज्यादातर बाहर रहता था, इसलिए हर कोई उसे पटाना चाहता था
हर किसी का लंड एक ही औरत पर लट्टू था ।

उसके पति साल में एक या दो बार ही लंबी छुट्टी पर आते थे, इसलिए भाभी की चूत अक्सर प्यासी रहती थी।

उस दिन जब मैं छत पर टहल रहा था तो भाभी मुझे देख रही थी। BHABHI KI CHUDAI KAHANI
मैंने भी उन पर ध्यान देना शुरू कर दिया।

भाभी ने पहले कभी मुझसे बात नहीं की थी। लेकिन उस दिन, वह खुद मेरी हालत पूछने आई थी। फिर, दूसरे शब्दों में, उसने मेरा नंबर भी लिया।

मैं भाभी के साथ अपने फोन पर बातें करने लगा।
जब उसे लगा कि मैं उसके भरोसे का पात्र हूं और मैं उसके बारे में बात नहीं करूंगा, तो वह मुझसे फोन पर बात करने लगी।

धीरे-धीरे हम देर रात तक बातें करने लगे। BHABHI KI CHUDAI KAHANI
अब मैं भाभी के साथ सेक्स के बारे में बात करता था।

बस इस सप्ताह के बाद। मुझे भाभी की बातों से यकीन हो गया कि वो चुदना चाहती है।

एक बार भाभी ने मुझे रात को मिलने के लिए बुलाया।
मैं रात में भाभी के साथ बैठ के बहुत खुश हो गया। आज शायद मेरे और भाभी के बीच कुछ होने वाला था।
मेरा लण्ड रात के बारे में सोचकर कठोर हो गया था। BHABHI KI CHUDAI KAHANI

मैं रात को लगभग 10 बजे उसके घर पहुँचा। वहां जाने के बाद, मुझे पता चला कि केवल वह और उसकी बेटी उसके घर में रहते हैं।

जब मैं गया और भाभी से मिला तो भाभी ने मुझे पास के कमरे में बैठने को कहा और फिर मैं पास के कमरे में चला गया।

मैंने काफी देर तक इंतजार किया। 15 मिनट हो गए। वह नहीं आई। BHABHI KI CHUDAI KAHANI

फिर आधे घंटे के बाद भाभी मेरे कमरे में आई। उस समय, वह बहुत मासूम महसूस कर रही थी!
उसने गुलाबी रंग की पारदर्शी शर्ट पहनी थी और उसमें उसकी गुलाबी ब्रा और जालीदार पैंटी साफ दिख रही थी।

कमरे में आने के बाद भाभी ने दरवाजा अंदर से बंद कर लिया।
मैंने कहा- लेकिन रूबी भाभी… आपकी बेटी?
वह मेरे पास आयी और मेरे होंठों पर उंगली रखी।

उसके बदन की खुशबू मुझे मदहोश करने लगी। उस पारदर्शी शर्ट में उसका कोमल शरीर और उसकी जवानी झलक रही थी।
मैं पूरी तरह से दूसरी दुनिया में चला गया। BHABHI KI CHUDAI KAHANI

जब मैं अपने होठों से अपनी भाभी की उंगली चूमा, वह मुस्कुरायी।
फिर वो मेरे पास आई और बैठ गई और मेरा हाथ अपने हाथ में ले लिया।
दो मिनट तक वो मेरे हाथ को रगड़ती रही और मुझे कुछ खाने-पीने के लिए कहती रही।

लेकिन मैं घर से खाना खाकर आया था और अब बस भाभी की चूत खाना चाहता था और उसके निप्पलों का दूध पीना चाहता था।
मैंने भाभी से कहा कि मुझे उनकी चूत खानी है और उनके निप्पलों का दूध पीना है। BHABHI KI CHUDAI KAHANI

वो मुझ पर जोर से हंसने लगी और मैंने उसे पकड़ लिया और बिस्तर पर लेटा दिया।
मैं उस उपर आ गया और उसके होठों पर अपने होंठ रख दिया और उसे चूमने शुरू कर दिया।

उन्होंने मेरी पीठ पर अपनी बाहों को लपेट लिया और मुझे चुंबन में समर्थन शुरू कर दिया। उसके हाथ मेरी पीठ पर चल रहे थे।
उसके होंठ गुलाब की पंखुड़ियों की तरह मुलायम थे। BHABHI KI CHUDAI KAHANI

मै भाभी के चूचे पकड़ कर मसल रहा था और निप्पल को बेदर्दी से चूस रहा था।

अभी भाभी ने नाइटी नहीं निकाली थी, लेकिन उनके चूची के निप्पल उनकी ब्रा और नाइटी के अंदर भी दिख रहे थे।

एक हाथ से मैं भाभी की चूत को सहला रहा था और वो अपनी टाँगों को हिलाते हुए आनंद ले रही थी।
फिर मैंने उसकी नाइटी खोल दी। BHABHI KI CHUDAI KAHANI

उसकी गुलाबी ब्रा में कैद, ऐसा लग रहा था उसके बड़े चूचे फंस गए हो ।
वह बाहर आने के लिए बेताब थे और अपनी ब्रा के अंदर से इस तरह थे जैसे वह हमें यहां से निकलने के लिए कह रहे हो। हमें बाहर खुले में आने दो।

मैंने उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसके दोनों निप्पलों को दबाया और उन्हें निचोड़ने लगा।

भाभी भी चुदासी हो रही थी और वो भी अपना जोर स्तन पर लगा रही थी।

फिर उसने अपनी नाइटी उतार दी। अब वो केवल ब्रा और पैंटी में थी। BHABHI KI CHUDAI KAHANI

मैं एक हाथ से उसकी चूत को रगड़ने लगा और अब उसकी पैंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को सहलाने लगा।

BHABHI KI CHUDAI KAHANI |2021 latest Indian sex story | Hot भाभी की चुदाई कहानी

अब भाभी की पैंटी को निकाल कर मैंने उनकी चूत पर हाथ फेरा।
मैं पागल हो गया भाभी की चूत पूरी गर्म हो चुकी थी और गीली होने लगी थी।
उसकी चूत का रस मेरी उंगली पर लग गया और मैंने उस उंगली को बाहर निकाल लिया और उसे चाटा।

उसने कहा- तुम ऐसी उंगली से क्या चाट रहे हो… मेरी चूत को पूरा चाटो!
यह सुनकर मुझे खुशी हुई। मैं खुद उसकी चूत पीना चाहता था। BHABHI KI CHUDAI KAHANI

मैंने उसकी चूत में उंगली डाली और तेजी से अन्दर बाहर करने लगा।
वह जोर-जोर से चिल्लाने लगी- आह्ह .. लो आराम से करो यार… अभी तो पूरी रात बाकी है।

चूत में उंगली डाल कर मैं धक्के मारने लगा और भाभी की चूत लगातार गीली हो रही थी।
अब मैं भाभी की चूत में से ऊँगली निकाल कर उसके मुँह में दे दिया

फिर उसने अपनी पैंटी को निकाल दिया। मैंने भी अपने कपड़े उतार दिए और केवल अंडरवियर में रह गया।
भाभी मेरे सामने नंगी लेटी हुई थी। उसकी चूत के ऊपर एक भी बाल नहीं था।

मेरे पूछने पर भाभी ने कहा कि उन्होंने आज अपनी चूत साफ कर ली है।
फिर मैंने अपना मुँह उसकी चूत पर रखा, लेकिन भाभी ने मुझे रोक दिया। BHABHI KI CHUDAI KAHANI

उसने कहा- तुम लेट जाओ।
जब मैं लेट गया तो भाभी उठ गई और अपने दोनों पैर मेरे दोनों साइड में ले लिए। फिर उसने मेरे ऊपर बैठते हुए अपनी चूत मेरे होंठों पर रख दी और मेरे मुँह के ऊपर बैठ गई।

मैं पूरा पागल हो गया था। भाभी का भोसड़ा मेरे चेहरे पर था। मैं उसे खाने के लिए उठा।
मुझे बहुत अच्छा लग रहा था और भाभी अपनी चूत को मेरे होंठों के ऊपर रगड़ रही थीं।

भाभी की चूत में से बहुत अच्छी खुशबू आ रही थी और साथ ही नमकीन जैसी जैसा स्वाद भी
सच में दोस्तों, रूबी की चूत बहुत रसदार थी। मैंने भी बड़े आत्मविश्वास से उसकी चूत को चूसा।

अब मैंने अपने लण्ड को देर न करते हुए उनके हाथ में पकड़ा दिया। BHABHI KI CHUDAI KAHANI
भाभी, जो कई महीनों से प्यासी थी, मेरे लण्ड को देख कर उसकी आँखों में चमक आ गई।

वो मेरे लण्ड को अपने एक हाथ से रगड़ रही थी और आगे पीछे करते हुए अपनी गांड को हिलाते हुए अपनी गांड को मेरे होंठों से रगड़ रही थी।

फिर उसकी स्पीड बढ़ गई और उसने मेरे मुँह पर तेज़ी से चूत फेटनी शुरू कर दी।

अब मैंने भी उसकी गांड को पकड़ कर उसकी चूत में जीभ अंदर बाहर करना शुरू कर दिया।
वो मदहोश होने लगी और मेरे लंड को छोड़ कर उसके निप्पलों को ज़ोर-ज़ोर से निचोड़ने लगी।

उसके चूची के निपल्स उसके चूचो पर किसी पहाड़ की चोटी की तरह चिपके हुए थे।
मुझे ऐसा लगा जैसे उसके निप्पल को काट कर उन्हें खा रहा हूँ। BHABHI KI CHUDAI KAHANI

फिर उसने मेरा सिर पकड़ कर जोर से मेरी चूत में पेल दिया।
उसकी आहें… और उसकी चूत ने गरम गरम पानी मेरे मुँह में छोड़ दिया।
वो झड़ने लगी और मैंने उसका सारा पानी पी लिया।

उसके बाद भाभी ने मुझे नीचे रखा और मेरे लण्ड को मुँह में लेकर चूसने लगीं।
मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। वो मेरे लण्ड को किसी वेश्या की तरह चूस रही थी।

उसने लण्ड को ऊपर से नीचे तक चूसा, बड़े प्यार से सहलाया और तब तक वो फिर से गर्म हो चुकी थी।
अब वो खुद ही मेरे लंड को अपनी चूत पर रगड़ने लगी। BHABHI KI CHUDAI KAHANI

BHABHI KI CHUDAI KAHANI |2021 latest Indian sex story | Hot भाभी की चुदाई कहानी
DDF NETWORK

फिर उसने कहा- अब जल्दी से अपना लण्ड मेरी चूत में डालो… मैं कई महीनों से प्यासी हूँ।
जब मैंने उसकी चूत पर हाथ रखा तो वो भी ख़ुशी में आँसू बहा रही थी।

अब मैं उठा और एक पोजीशन ली। मैंने भाभी की टांगें उठा दीं और अपना लण्ड उनकी चूत के छेद पर रख दिया।
भाभी बस इंतज़ार कर रही थी कि कब मै लंड धकेलूँगा और लंड उसकी चूत में जाएगा।

मैंने भी उसकी आँखों में देखा और उसे पूरी तरह से धक्का दिया और अपना लंड उसकी चूत में घुसा दिया।
फिर भाभी चिल्ला उठी और उसने मेरा लंड अपनी चूत में आह… आह… के साथ आने दिया।

उसकी चूत ज्यादा खुली नहीं थी पर ज्यादा टाइट नहीं थी। BHABHI KI CHUDAI KAHANI
मेरा लंड मोटा था इसलिए उन्हें लेने में दिक्कत हो रही थी।

फिर मैंने थोड़ा ज़ोर लगाया, तो उसकी चूत में पूरा लंड पूरा अंदर घुस गया।
भाभी के आंसू निकल रहे थे थे लेकिन वो खुश थी क्योंकि उसे आज लण्ड मिला था जो उसकी चूत की प्यास बुझाने वाला था।

मैंने धीरे-धीरे अपना लण्ड अन्दर-बाहर करना शुरू कर दिया।
भाभी को भी मजा आ रहा था। उसने भी अपनी गांड उठा कर चुदाई शुरू कर दी।
आआहह… आआआआहह… उसके मुँह से आवाज़ बहुत प्यारी निकली।

मैं उसे 15 मिनट तक इस पोजीशन में चोदता रहा। BHABHI KI CHUDAI KAHANI
फिर मैंने कहा- अपना मुँह खोलो। मैं अब झड़ने वाला हूँ।
मेने हांफते हुए कहा- आह… … मैं आने वाला हु मेरा पानी अपनी चूत में डलवा लो न ।।। मुझे बहुत अच्छा लगेगा तुम्हारी चूत को भरने में।

उसने कहा- नहीं, चूत में नहीं गिर्वा सकती , अगर आपने कंडोम पहना होता, तो चूत में गिरवा दिया होता। लेकिन अभी नहीं करवा सकते।

भाभी बोली- जल्दी निकालो और मुझे चाटो! BHABHI KI CHUDAI KAHANI

फिर मैं लेट गया और जल्दी से उसकी चूत को अपने मुँह पर रगड़ने लगा।
अचानक वह गिरने लगी। उसकी चूत ने बहुत सारा पानी छोड़ दिया, जिसे मैंने पूरा पी लिया।

फिर भी मैं परेशानी में नहीं था।
मैं भाभी जी को घोड़ी बना दिया और उसकी गाँड़ की छेद चाटना शुरू कर दिया – उम्म … आह … जब उसकी गाँड़ चाट रहा था …।

मुझे बहुत अच्छा लग रहा था। भाभी जी भी बहुत उत्साहित थी,
भाभी ने मुझे बताया कि उनकी गांड अभी तक कुंवारी है।

फिर मेरा मुँह पानी हो गया और मैंने अपना लण्ड भाभी की गांड पर सेट किया।
भाभी ने मुझे बहुत रोका, लेकिन मैंने उनकी एक नहीं सुनी और अपना लण्ड उनकी गांड में धीरे-धीरे डालने लगा।
वो चिल्लाने लगी, जोर मार रही थी, लेकिन गांड चोदने का भूत मुझ पर सवार था।

मैंने भाभी की गांड में लंड पेल दिया।
मेरा लंड भी दर्द करने लगा क्योंकि भाभी की गांड बहुत टाइट थी।
फिर मैं उसके ऊपर लेट गया। BHABHI KI CHUDAI KAHANI

जब उसे थोड़ा आराम मिला तो मैंने उसकी गांड चोदनी शुरू कर दी।
पहले तो भाभी को बहुत दर्द हो रहा था, लेकिन धीरे-धीरे भाभी सारा दर्द भूल गईं और मेरा साथ देने लगीं।

अब मुझे भाभी की गांड चोदने में ज्यादा मज़ा आ रहा था।
मेरा लंड उसकी गांड में फंसने वाला था। भाभी कराह रही थी लेकिन गांड चुदाई का भी मज़ा ले रही थी।

जब मेरा लण्ड उसकी गांड में जाता था, तो मेरे टट्टे उसकी चूत से टकराते थे, जिससे फटने की आवाज़ आती थी।
उस आवाज ने मुझे और उत्साहित कर दिया। अब मैं फिर से झड़ने के कगार पर था।

फिर भाभी ने मुझसे कहा – मुझे मुँह में लेना है। मैं तुम्हारा वीर्य पीना चाहता हूँ। मैं अपने फौजी पति का वीर्य भी पीती हूं और मुझे यह बहुत पसंद है। BHABHI KI CHUDAI KAHANI

उसके कहने पर मैंने गांड से लंड निकाल कर उसके मुँह में डाल दिया।
मैंने अपना लण्ड भाभी के मुँह में डाल दिया और उनका सर पकड़ कर उनके मुँह को चोदने लगा।
ऐसे लंड को अंदर बाहर करते हुए मैं झड़ गया

भाभी ने मेरा सारा माल निचोड़ लिया। उसने वीर्य की हर एक बूंद को अंदर निगल लिया।
मैं और भाभी बहुत खुश थे। हम दोनों संतुष्ट थे।

उस रात मैंने हॉट भाभी के साथ 4 बार सेक्स किया।
अगले दिन मैं सुबह 5 बजे अपने घर आ गया। BHABHI KI CHUDAI KAHANI

उसके बाद हमारा चुदाई का कार्यक्रम चलता रहा। भाभी को मुझसे एक लड़का पैदा हुईं, जिनका नाम उन्होंने जॉन रखा।

आपको मेरी हॉट भाभी की चुदाई कहानी कैसी लगी,

1.BHABHI KI फ़ुद्दी KI CHUDAI KAHANI | देसी भाभी | फ़ुद्दी की चुदाई |

2.देसी भाभी की चूत की चुदाई कहानी (DESI BHABHI KI CHUDAI KAHANI)

3 thoughts on “BHABHI KI CHUDAI KAHANI |2021 latest Indian sex story | Hot भाभी की चुदाई कहानी”

Leave a Comment